HomeMadhya PradeshOpinion

अमित शाह से मिल सकते हैं सिंधिया, जल्द हो होगा शिवराज केबिनेट का विस्तार

नागरिक लॉकडाउन खोलने की दिशा में दे सकते हैं महत्वपूर्ण सुझाव
MP: मंत्रियों को विभाग बांटने को लेकर अमित शाह से मिले शिवराज
पेट्रोल और डीजल की बेतहाशा मूल्यवृद्धि के खिलाफ कांग्रेस ने साइकिल और पैदल मार्च निकाल कर विरोध प्रदर्शन किया
भोपाल । शिवराज केबिनेट के विस्तार की तैयारियों के बीच एक महत्वपूर्ण मोड़ आ रहा है। कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया आज शाम या कल सुबह केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कने वाले हैं। दोनों केबीच यह चर्चा शिवराज काबीना में शामिल होने वाले नामों तथा विभाग वितरण की दृष्टि से अहम मानी जा रही है। इधर शिवराज सिंह चौहान ने अपनी टीम के लिये दर्जनभर से ज्यादा नाम प्रदेश भाजपा संगठन और संघ नेताओं से चर्चा के बाद लगभग तय कर लिए हैं। जानकार सूत्रों का कहना है कि 27 मई के आसपास शिवराज अपनी करीना का विस्तार करेंगे। संभवतः इसी दौरान राज्य सरकार लॉकडाउन के नियमों में कुछ और छूट देने वाली है। नये मंत्रियों में भाजपा ने क्षेत्रवार और जातिगत संतुलन का ध्यान रखते हुए टीम बनाई है। भाजपा फिलहाल हर संभाग से कम से कम दो मंत्री बनाना चाहती है। इन नामों में भूपेंद्र सिंह, गोपाल भार्गव, केदारनाथ शुक्ला, विजय शाह,अजय विश्नोई, अरविंद भदौरिया, उषा ठाकुर, विश्वास सारंग जैसे पुराने नाम है तो कुछ ऐसे पुराने चेहरों को भी मौका दिया जा रहा है जो अब तक मंत्री नहीं बन सके थे। दूसरी और विधायक का ओहदा बड़ सकता हैं ।
गंवाकर भाजपा में शामिल हुए कांग्रेस ने नौ और नेता भी मंत्री बन है हैं। इनमें महेंद्र सिंह सिसोदिया, प्रद्युम्न सिंह तोमर, प्रभुराम चौधरी, इमरती देवी के अलावा बिसाहूलाल सिंह,राजवर्धन सिंह, हरदीप सिंह डंग, एंकर सिंह कंसाना और रणवीर जाटव शामिल हैं इस तरह कांग्रेस के बागियों की संख्या शिवराज कान में 11 हो सकती है। क्योंकि गोविंद सिंह राजपूत और तुलसी सिलावट पहले से ही मंत्री बन चुके हैं। इन राशियों में से कम से कम चार को राज्यमंत्री बनाया जाएगा। माना जाता है कि अपने समर्थकों के मामले में ही सिंधिया ने शाह से मुलाकात का वक्त मांगा है। विभागों के वितरण को लेकर भी वे सतर्क हैं ।