HomeMadhya Pradesh

दो मंत्रियों की मियाद खत्म गोविंद सिंह राजपूत- तुलसी सिलावट अब भूतपूर्व मंत्री

my-portfolio

शिवराज मंत्रिमंडल के दो गैरविधायक सदस्य गोविंद सिंह राजपूत और तुलसी सिलावट की मंत्री पद की मियाद' आज खत्म हो रही है। दोनों को 21 अप्रैल को कैबिनेट मंत

भोपाल में बेलगाम होता कोरोना, आज फिर मिले 62 नए पॉजिटिव
शहडोल: संसाधनों के अभाव से ग्रस्त ‘नायब तहसीलदार कार्यालय चन्नौडी’
Monsoon updates: 12 जून तक मध्य प्रदेश पहुंच सकता है मानसून
Govind Singh Rajput, Tulsi Silavat

शिवराज मंत्रिमंडल के दो गैरविधायक सदस्य गोविंद सिंह राजपूत और तुलसी सिलावट की मंत्री पद की मियाद’ आज खत्म हो रही है। दोनों को 21 अप्रैल को कैबिनेट मंत्री पद की शपथ दिलाई गई थी।‌ नियमानुसार दोनों को छह महीने के भीतर चुनाव लड़कर विधायक बनना जरूरी था, लेकिन अब ऐन चुनाव के पहले दोनों अपना मंत्री पद गंवा रहे हैं। राजपूत परिवहन राजस्व और सिलावट जल संसाधन मंत्री है।

 उधर राज्यपाल आनंदी बेन पटेल भी भोपाल पहुंच गई है। जानकार सूत्रों के अनुसार सिलावट और राजपूत का मंत्री पद आज स्वतःसमाप्त हो जायेगा। इसके बाद सरकार की ओर से दोनों मंत्रियों के विभाग किसी अन्य मंत्री को देने की अधिसूचना जारी की जायेगी। विस के पूर्व प्रमुख सचिव भगवानदेव इसरानी का कहना है कि इसके लिये दोनों मंत्रियों को अलग से इस्तीफा देने की जरूरत नहीं होगी।
 ज्ञात हो कि सिलावट और राजपूत मप्र की राजनीति में कांग्रेस के दो सीनियर नेता के तौर पर शुमार थे और ज्योतिरादित्य सिंधिया कैंप से जुड़े थे। 22 सिंधिया समर्थक विधायकों के भाजपा में शामिल हो जाने के बाद इनका विधायक पद चला गया था। लेकिन राजनीतिक समझौते के तहत दोनों को बिना चुनाव के ही काबीना मंत्री पद दे दिया गया था। अब माना जा रहा है कि इन दोनों मंत्रियों के पास मौजूद महकमे का शिवराज अपने भरोसेमंद मंत्रियों में बांटेंगे। परिवहन महकमा भूपेंद्र सिंह को दिया जा सकता है और राजस्व की कमान कमल पटेल के पास जा सकती है। दरअसल कोविड के चलते चुनाव में देरी हुई और इसके चलते दोनों मंत्रियों के पद पर रहने की अवधि भी पूरी हो गई। इससे पहले कांग्रेस की दिग्विजय सिंह सरकार ने इब्राहिम कुरैशी को छह महीने के लिए काबीना मंत्री बनाया था।

शिकायतों पर सख्त हुए शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज अचानक वरिष्ठ अफसरों की एक बैठक बुलाकर शिक्षकों, किसानों आदि की लगातार आ रही शिकायतों पर कडी नाराजगी प्रकट की। जानकारी के मुताबिक शिक्षकों के वेतन नहीं मिलने को लेकर आ रही समस्याओं पर भी उन्होंन अफसरों से कैफियत मांगी। माना जा रहा है कि चुनाव प्रचार के दौरान भी इस तरह की शिकायतें मिलने पर सीएम खुश नहीं हैं। इसीलिये आज आननफानन अफसरों को उन्हींने अपने निवास पर तलब किया बताया जाता है कि उन्होंने अधिकारियों से विभिन्न योजनाओं की जानकारी ली। खासतौर पर किसान कल्याण निधि के क्रियान्वयन, निर्धारित लक्ष्य के विरुद्ध प्राप्त उपलब्धि, फसल बीमा योजना, धान खरीदी,खाद और उर्वरक प्रदाय, विद्युत आपूर्ति, कर्मचारियों को समय पर वेतन के संबंध में संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए। इस अवसर पर मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस और पुलिस महानिदेशक विवेक जौहरी उपस्थित थे।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0