HomeMadhya Pradesh

भोपाल हबीबगंज तीसरी लाइन को पूरा होने में अभी 1 साल करना होगा इंतजार

डीएलएड परीक्षा के लिये 10 जून तक कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन
शिवराज नर्मदा यात्रा करो और CM का पद हाईकमान के हवाले कर दो – सज्जन सिंह वर्मा
नागरिक लॉकडाउन खोलने की दिशा में दे सकते हैं महत्वपूर्ण सुझाव
Railway track

भोपाल से हबीबगंज के बीच तीसरे रेल लाइन पर ट्रेनें दौड़ने में अभी भी कम से कम एक साल लगेगा। यह काम लगातार लेट हो रहा है। इस वजह से इस सेक्शन में तीसरी लाइन का काम पूरा नहीं हो रहा है जो दो साल पहले पूरा हो जाना था। निर्माण एजेंसी रेल विकास निगम लिमिटेड (RVNL) द्वारा समय पर काम पूरा नहीं कर पाने के कारण अब यह लाइन एक साल बाद चालू होगी। भोपाल से बीना तक तीसरी रेल लाइन का‌‌ काम चल रहा है। 

इसी में भोपाल-हबीबगंज एक खंडहै, जो 6 से 7 किलोमीटर लंबा है। इस खंड में तीसरी रेल लाइन का काम चार साल से अधिक समय से चल रहा है जो अभी तक पूरा नहीं हुआ है। यह करीब 7 किमी लंबा खंड है। इसका काम जनवरी 2019 में पूरा करने का टारगेट था जो पूरा नहीं हुआ है। रेल विकास निगम लिमिटेड के अधिकारियों का कहना है कि इस खंडमें हबीबगंज भोपाल रेल यार्ड होने के कारण देरी हो रही है क्योकि कई काम ऐसे हैं जो मौजूदा चालू रेल लाइनों के पास से या नजदीक से करना पड़ रहा है। साथ ही दोनों तरफ यार्ड होने से ज्यादा मुष्किलें हो रही हैं। हालांकि मौजूदा स्थिति में करीब 95 फीसदी काम हो चुका है। केवल दोनों स्टेशन यार्डों में तीसरी रेल लाइन को पुरानी पटरियों से जोड़ने का काम बाकी है। इसके लिए भोपाल और हबीबगंज स्टेशन के यार्ड में मौजूदा रेल लाइन में मामूली बदलाव करने होंगे। इस काम में कम से कम 5 महीने का वक्त लगेगा। 
अधिकारियों की माने तो वैसे तो यह काम एक महीने में हो सकता है लेकिन एक साथ ब्लाक नहीं ले सकते। ऐसा किया तो मौजूदा पटरियों पर ट्रेनें ज्यादा समय एक और एक साथ रखनी पड़ेगी, जो संभव नहीं है। ऐसे में काम टुकड़े-टुकड़े में किया जाना है। इस नई लाइन पर ट्रेनों का आवागमन चालू होने से ट्रेनों को भोपाल-हबीबगंज के बीच नहीं रोकना पड़ेगा। अभी कई बार ऐसा होता है जब दोनों स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर ट्रेनें खड़ी रहती हैं तो बीच में ट्रेनों को मामूली समय के लिए रोकना पड़ता है। इसी तरह कई रूटीन की ट्रेनों को भोपाल-हबीबगंज के बीच रोककर जरुरी मालगाड़ियों व फास्ट ट्रेनों को निकालना पड़ता है। तीसरी रेल लाइन चालू होने से ऐसी ट्रेनों के लिए रूटीन की ट्रेनों को रोकने की नौबत नहीं आएंगी।