HomeLifestylesHealth

ये दिल के मर्ज तो आज भी हैं इंसानियत के सबसे बड़े दुश्मन

पैसा खुशहाली की जड़ नहीं है, प्रसन्न रहना ही है सबसे बड़ी दवा
पैसा खुशहाली की जड़ नहीं है, प्रसन्न रहना ही है सबसे बड़ी दवा
Covid-19 के शुरुआती लक्षण वाले लोग घर पर ही आइसोलेट हो सकते हैं

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन ( डब्ल्यूएचओ ) के मुताबिक , पिछले 20 सालों में दुनिया में सबसे ज्यादा मौतें दिल की बीमारी से हुई. डायबिटीज के अलावा अब डिमेंशिया यानी भूलने की बीमारी भी दुनिया के उन 10 रोगों में शामिल है जो सबसे ज्यादा लोगों की जिंदगियां छीन रही है.डब्ल्यूएचओ ने हेल्थ रिपोर्ट जारी की है.इसमें साल 2000 से लेकर 2019 तक का डेथ रिकॉर्ड शामिल किया गया.रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में जिन 10 रोगों से सबसे ज्यादा मौतें होती हैं उनमें 7 ऐसी बीमारियां हैं जो एक से दूसरे इंसान में नहीं फैलतीं. ऐसी बीमारी को नॉन – कम्युनिकेबल डिसीज कहते हैं.

डब्ल्यूएचओ ने 20 सालों में टॉप 10 बीमारियों से होने वाली मौत का आंकड़ा जारी किया.
बेहद चिंताजनक हैं आंकड़े
पिछले 2 दशक के आकडे चौकान वाले है . रिपोर्ट के मुताबिक , दुनियाभर में बीमारियों से होने वाली मौतों में 16 परसेंट हिस्सेदारी हृदय रोगों है. पिछले 20 सालों में इस्केमिक हार्ट डिसीज से होने वाली मौतों में 20 लाख से अधिक की बढ़ोत्तरी हुई है . 2019 तक ये आंकड़ा 90 लाख पहुंच गया है. दूसरे पायदान पर स्ट्रोक है. शरीर की शुरुआती देखभाल ही ऐसी बीमारियों से बचाएगी.
सांस के रोग भी पीछे नहीं 
रिपोर्ट के मुताबिक, हार्ट के बाद सबसे ज्यादा मौते सास से जुड़ी बीमारियों से हुई, तीसरे पायदान पर ट्रॉनिक ऑवस्ट्रेक्टिव पल्मोनरी डिसीज और चौथे पर लोवर रेस्पिरेटरी इफेक्शन. क्रॉनिक ऑबस्ट्रेक्टिव पल्मोनरी डिसीज की मौतों में हिस्सेदारी 6 परसेंट रही. वही, पिछले 20 साल में लोवर रेस्पिरेटरी इफेक्शन से 26 लाख मौते हुई. इसके बाद सबसे ज्यादा मौतें नवजातों की हुई.
लोगों की उम्र भी बढ़ी
20 साल पहले दुनियाभर में होने वाली मौतों के मामले में एचआईवी / एड्स 8 वें पायदान पर था जो 2019 में 19 वें स्थान पर चला गया.टीबी अब दुनिया की 10 बड़ी बीमारियों में शामिल नहीं है.2000 में यह गर्व पायदानपर थी जो 2019 तक गिरकर 13 वें स्थान पर चली गई है. मलेरिया से होने वाली मौतों का आकडा भी कम हुआ है.पिछले 20 सालों में लोगों की औसतन उम्र 6 साल तक बढ़ी है. 20 साल पहले इसान की औसत उम्र 67 साल थी जो 2019 में बढ़कर 73 साल हो गई 
है.