HomeCareeranimation

Increasing scope of animation jobs in India- भारत में एनिमेशन जॉब का बढ़ता दायरा

Increasing scope of animation jobs in India- भारत में एनिमेशन जॉब का बढ़ता दायरा

Animation job in India

भारत में एनिमेशन जॉब का बढ़ता दायरा

Animation (एनिमेशन) उद्योग का दायरा कार्टून फिल्मों से शुरू होकर आज आधुनिक मनोरंजन जगत के लगभग सभी क्षेत्रों तक फैल चुका है

युवाओं को आजकल एनिमेशन का क्षेत्र आकर्षित कर रहा है Animation रचनात्मकता पर‌ आधारित क्षेत्र है।यह रचनात्मकता ललित कला, स्केचिंग आदि पर निर्भर करती है, इसलिए इसमें वही लोग करियर बना सकते हैं, जो रचनात्मक हों तथा जिनका प्रस्तुतिकरण अच्छा हो।
घंटों एक ही प्रोजेक्ट पर लगातार काम करने तथा कुछ नया गढ़ने की लालसा इस क्षेत्र में सफल बना सकती है। टीवी, पत्रिका, अखबार, होर्डिंग, कंप्यूटर आदि सभी मल्टीमीडिया के सहारे चल रहे हैं।‌ इसी से सबंधित Animation भी विकास कर रहा है।‌ भारत में Animation का बड़ा बाजार स्थापित हो चुका है।आने वाले 6-7 वर्षों में करीब 70 फीसदी जॉब मल्टी मीडिया से होंगे, इसलिए छात्रों अपनी पढ़ाई के दौरान ही प्रायोगिक ज्ञान आत्मसात करना होगा।

Animation‌ कोर्स

Animation में ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट, डिप्लोमा, एडवांस डिप्लोमा, पीजी डिप्लोमा व सर्टिफिकेट स्तर पर कई तरह के पाठ्यक्रम मौजूद है।

Animation में अवसर 

मनोरंजक क्षेत्र (टीवी / फिल्म म्यूजिक विडियो), वीडियो गेम कपंनियों विज्ञापन कंपनियों और कप्यूटर क्षेत्र में नौकरियों की कोई कमी नहीं है।आप क्लीनअप आर्टिस्ट, जूनियर आर्टिस्ट असिस्टेंट एनिमेटर, कैरेक्टर डिजाइनर बैकग्राउंड आर्टिस्ट , स्टोरी बोर्ड आर्टिस्ट विजुअलाइजर, 2 डी व 3 डी डिजिटल एनिमेटर, वीडियो एडिटर, गेम प्रोग्रामर, एनिमेशन डायरेक्टर बन सकते हैं।
अंतर है 2 डी व 3 डी में : 2 डी Animation में कई श्रेणियां हैं।‌ ‌यह सिर्फ दो एक्सिस (एक्स और वाई) पर काम करते हैं।‌ इसका सर्वप्रथम प्रयोग वाल्ड डिज्नी ने किया था।
पहले कप्यूटर न होने से अलग अलग सीट पर 20-22 कार्टून हाथ से बनाकर कैमरे को दिया जाता का अब कप्यूटर से सॉफ्टवेयरों के द्वारा कार्टून तैयार किए जाते है।‌ भारत ‌की‌ पहली Animation फिल्म ‘हनुमान’ 2 डी एनिमेशन देन है।‌ 3 डी एनिमेशन सॉफ्टवेयर म्यूजिक आधारित पाठ्यक्रम है , जिसमें 3 डी स्टूडियो मैक्स, माया, सॉफ्ट इमेज आदि प्रमुख हैं। आजकल कैरेक्टर Animation जमाना है, जिसमें इंसान गति प्रदान की जाती है। 

Animation की पढ़ाई के लिए आवश्यक योग्यता

10+2 के बाद ग्रेजुएशन अथवा डिप्लोमा कोर्स में दाखिला मिलता है। कला पृष्ठभूमि वाले छात्र भी इस में दाखिला ले सकते हैं
वास्तविकता यह है कि आर्ट की जानकारी रखने वाले छात्रों को कई सम्यक सहायता मिलती है। ग्रेजुएट डिग्री हो तो पोस्ट ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में भी प्रवेश मिल जाता है। हुनर : इस क्षेत्र में आगे बढ़ने के लिए छात्र को रंग, आकार व अनुपात की अच्छी समझ होनी चाहिेए। एक एनिमेटर को लेखक , वॉयस ओवर एक्टर, साउंड टेक्नीशियन व म्यूजिक कंपोजर के साथ तालमेल बिठाना पड़ता है।

Animation में स्कॉलरशिप

टीजीसी छात्रों को कला सृष्टि स्कॉलरशिप प्रोग्राम देता है तो दि यूडी स्कूल ऑफ एनिमेशन हैदराबाद, डायवर्सिटी इन इंडिया एनिमेशन स्कॉलरशिप प्रोग्राम प्रदान करता है, जबकि एडिटवर्क कलात्मकता परीक्षण एवं इंटरव्यू के बाद प्रतिवर्ष छात्रवृति देता है। 

Animation job Salary

अधिकांश कंपनियां एनिमेटर ग्रेड पी -1, पी -2 पी -3,‌ ‌पी‌ -4 और पी -5 के आधार पर वेतन देती हैं। इनमें नए आने वाले युवाओं को पी -5 ग्रेड का एनिमेटर माना जाता है उन्हें 12-15 हजार रु. प्रतिमाह वेतन मिलता है।
एक Animation का क्षेत्र है । यहाँ रोजगर के अनेक विकल्प मौजूद हैं । यह मीडिया और मनोरंजन से जुड़ा क्षेत्र है, जो कभी मंद नही होता। अगर नैस्कॉम की रिपोर्ट पर गौर करे, तो Animation उद्योग 22 फीसदी की सालाना दर से वृद्धि कर रहा है इसमें आगे चलकर 6 लाख से अधिक प्रशिक्षित पेशेवरों की जरूरत होगी।